लॉकडाउन के बाद से अब तक जो चीजें नहीं खुली थी वह भी आज से खुल गई

0
121

9 जून के बाद से अभी तक स्कूल बंद थे पिछले साल 2020 में मार्च के महीने में स्कूल बंद कर दिए गए थे और अभी तक स्कूल और कॉलेज नहीं खोले गए थे लेकिन अब दिल्ली और राजस्थान जैसे राज्यों में 10वीं और 12वीं कक्षाओं के लिए स्कूल खोल दिए गए हैं।

दरअसल दसवीं और बारहवीं की मई में बोर्ड की परीक्षाएं हैं और इसे ध्यान में रखते हुए छात्रों की तैयारियों के लिए स्कूल खोले गए हैं।

दूसरी तरफ दिल्ली की निचली अदालतें मैं भी कामकाज अब शुरू हो गया है हालांकि जज और स्टाफ को वैकल्पिक दिनों यानी एक एक दिन छोड़कर बुलाया गया है लेकिन अब अदालतें रोज खुलेगी।
अभी तक अदालतों में सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हो रही थी जबकि महीने में 5 या 6 दिन फिजिकल तरीके से कोट लग रही थी।

अदालतों को नियमित तौर पर चलाने को लेकर वकील लंबे समय से मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि कोरोना की वजह से वकीलों का इतना नुकसान नहीं हुआ है जितना कि लॉक डाउन की वजह से उनके काम धंधे चौपट हो गए हैं और कई पेशेवर वकील तो अपनी रोजी-रोटी कमाने के लिए सब्जी तक बेच रहे हैं

जहां तक स्कूलों की बात करें तो दसवीं और 12वीं की बोर्ड की परीक्षाओं को मद्देनजर दिल्ली और राजस्थान सरकार ने स्कूल खोलने का मन बनाया है हालांकि उन्हीं बच्चों को स्कूल आने की इजाजत दी जाएगी जिनके माता-पिता ने लिखित तौर पर बच्चों को स्कूल भेजने की सहमति दी है। जो माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते उन पर किसी तरह का दबाव नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 16 जनवरी को कोरोना वायरस की वैक्सीन लॉन्च करने के बाद स्कूल और अदालतें खोलने का निर्णय लिया गया है। साफ है कि सरकार और संस्थान समेत आम आदमी के मन में भी अब कोरोना को लेकर डर कुछ कम हुआ है लेकिन जैसा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद कह रहे हैं कि खतरा अभी टला नहीं है और वैक्सिंग के बाद भी लोगों को मास्क उतारने और सोशल डिस्टेंसिंग भूलना नहीं चाहिए।